You are currently viewing What is Monkeypox। मंकीपॉक्स का इतिहास, लक्षण, उपचार, एवं रोकथाम- सम्पूर्ण जानकारी- 2023

What is Monkeypox। मंकीपॉक्स का इतिहास, लक्षण, उपचार, एवं रोकथाम- सम्पूर्ण जानकारी- 2023

मंकीपॉक्स का परिचय (Monkeypox intro)-

मंकीपॉक्स (Monkeypox) एक दुर्लभ वायरल बीमारी है जो वायरस के उसी परिवार से संबंधित है जो चेचक, चिकनपॉक्स और दाद का कारण बनता है। यह पहली बार 1958 में बंदरों में दिखाई दिया। जिस कारण इसका नाम भी मंकीपॉक्स पडा। बाद में, मनुष्यों में इसे सर्वप्रथम 1970 में कांगो देश में पहचाना गया था ।

Table of Contents

का इतिहास लक्षण उपचार एवं रोकथाम सम्पूर्ण जानकारी 1
मंकीपॉक्स का इतिहास, लक्षण, उपचार, एवं रोकथाम- सम्पूर्ण जानकारी

मंकीपॉक्स एक जूनोटिक रोग है, जिसका अर्थ है कि यह जानवरों से मनुष्यों में फैलता है, प्राथमिक मेजबान चूंहे जैसी प्रजातीयों और बंदर होते हैं। इस बीमारी में मनुष्य की मृत्यु दर 1-10% तक आकी गयी है और कुछ मामलों में यह गंभीर बीमारी का कारण बन सकती है। इस लेख में हम आपको मंकीपॉक्स से संम्बन्धित इसके इतिहास, संचरण, लक्षण, निदान, उपचार और रोकथाम व अन्य व्यापक जानकारी प्रदान करेंगें।

मंकीपॉक्स का इतिहास (History of monkeypox)

इसका पहला मामला 1958 में डेनमार्क के एक चिडियाघर में कैदी बंदरों में पहचाना गया था। बाद में 1970 में, कांगो देश में मंकीपॉक्स से संक्रमित पहला मनुष्य मामला सामने आया था। वायरस को पहली बार 1959 में सिंगापुर से आयात किए गए सिनोमोलगस बंदरों से अलग और पहचाना गया, तथा इसकी पुष्टी विश्वस्तर पर की गई ।

बंदरों के साथ मंकीपॉक्स वायरस के शुरुआती जुड़ाव के कारण, इस बीमारी को मंकीपॉक्स नाम दिया गया था या यू कह सकते है यह नाम पड गया था।शोध वैज्ञानिको द्वारा वायरस को चेचक के वायरस जैसा तथा इससे बहुत ही निकटता से संबंधित पाया गया था। शुरूआत में इसे यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) द्वारा इसे एक संभावित बायोटेरोरिज्म एजेंट माना गया था, मतलब कि इसे भी इसी डिजीज में रखा गया था।

मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox virus)-

यह एक वायरल बीमारी है जो मंकीपॉक्स वायरस के कारण होती है, यह वायरस ऑर्थोपॉक्सवायरस परिवार का एक सदस्य माना गया है। यह मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसे बंन्दरों और प्राइमेट्स,के साथ सीधे संपर्क के माध्यम से या संक्रमित मनुष्यों के निकट संपर्क के माध्यम से फैलता है। यह वायरस (मंकीपॉक्स) घातक हो सकता है, फिलहाल अनुमानित शोध के अनुसार इसकी मृत्यु दर 1% और 10% के बीच होने का अनुमान है, इसके विपरीत पश्चिम अफ्रीका में प्रकोपों ​​में उच्चतम दर देखी गई है।( प्राईमेट्स मतलब, वे जोड़े या परिवारों के समूह, एक पुरुष या समूहों के साथ हरम बनाने में सक्षम होते हैं जहां कई पुरुष विभिन्न मादाओं के साथ रहते हैं ऐसे जानवर समुदायको प्राइमेट्स से सम्बोधित किया जाता है)

मंकीपॉक्स कैसे फैलता है-(How does monkeypox spread)-

अभी तक शोध संस्थानो के अनुसार, मंकीपॉक्स वायरस मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसे चूंहे जैसी प्रजातीयों और प्राइमेट्स के सीधे संपर्क के माध्यम से मनुष्यों तक फैलता है, इसके अलावा अन्य जैविक प्रजातियों में इसके लक्षण शोधकर्ताओ को दिखाई नहीं दिये है। वायरस को काटने, खरोंचने, या संक्रमित जानवरों के रक्त, मूत्र, या श्वसन स्राव जैसे शारीरिक तरल पदार्थों के संपर्क में आने से प्रेषित किया जा सकता है।

मानव-से-मानव संचरण भी संभव है, हालांकि यह कम आम है ओर नाही अभी किसी शोध संस्थान ने इसकी कोई स्पष्ट पुष्टी की है। इसका मानव से मानव संचरण, एक संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क के माध्यम से होता है, जैसे किसी संक्रमित व्यक्ति की देखभाल करना या उसके साथ रहना अथवा संक्रमित व्यक्ति के द्वारा उपयोग सामान का इस्तेमाल करना जैसे- साबुन, टॉवल, या अन्य कोई स्पर्श वाली वस्तु टॉयलट सीट इत्यादि।

मंकीपॉक्स के लक्षण(symptoms of monkeypox)-

मंकीपॉक्स के लक्षण चेचक के समान होते हैं लेकिन तीव्रता में हल्के होते हैं। वायरस की ऊष्मायन अवधि 5 से 21 दिनों तक होती है। मंकीपॉक्स के लक्षणों में शामिल हैं:

What is Monkeypox।मंकीपॉक्स की सम्पूर्ण जानकारी 1
मंकीपॉक्स। Monkeypox
मंकीपॉक्स के लक्षण(Symptoms of monkeypox)
शरीर का तापमान बढना, बुखार होना
सिर दर्द, भारीपन महशूस करना
मांसपेशियों में दर्द रहना
कमरा के मध्य दर्द रहना, जकडन महशूस करना
सूजी हुई लसीका ग्रंथियां,
बेमोसम ठंड लगना
हर समय थकान महसूश होना
त्वचा में जगह- जगह लाल चकत्ते होना
त्वचा पर घनें दाने मंकीपॉक्स का सबसे विशिष्ट लक्षण है
दाने छोटे, उभरे हुए धक्कों के रूप में शुरू होते हैं जो तरल पदार्थ से भरे फफोले में बदल जाते हैं
ये त्वचा पर उभरे हुए दानें पपड़ी बनकर 2-4 सप्ताह के भीतर गिर जाते हैं
मंकीपॉक्स के लक्षण(symptoms of monkeypox)

शरीर पर दिखाई पड़ने वाले ये दाने आमतौर पर चेहरे और धड़ पर सबसे गंभीर स्थिती में होते हैं यानि इन स्थानों पर अधिक होते है। लेकिन बाद में यह शरीर के अन्य भागों में फैल सकते हैं। गंभीर मामलों में, दाने पूरे शरीर को ढक सकते हैं, और रोगियों को रक्तस्रावी लक्षणों का अनुभव हो सकता है, जैसे कि आंखों, नाक या मुंह से खून बहना इत्यादी

भूकंप (Bhukamp) कब, कैसे और क्यों आता है। बचाव कैसे करें।What is an earthquake, when, how and why it happens, how to protect himself

सौरमंडल के ग्रह एवं संबंधित सामान्य ज्ञान । Solar system in hindi full information- 2023

मंकीपॉक्स की जॉच अथवा निदान(Diagnosis of Monkeypox)

इसका निदान नैदानिक लक्षणों और प्रयोगशाला परीक्षणों पर आधारित है। पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) परीक्षणों का उपयोग करके वायरस को त्वचा के घावों या अन्य शारीरिक तरल पदार्थ, जैसे रक्त या लार से अलग किया जा सकता है। रोगी के रक्त में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी की उपस्थिति का पता लगाने के लिए एंजाइम-लिंक्ड इम्युनोसॉरबेंट परख (एलिसा) जैसे सीरोलॉजिकल टेस्ट का भी उपयोग किया जा सकता है।

मंकीपॉक्स का इलाज अथवा उपचार (Treatment of Monkeypox)

इसके लिए कोई विशिष्ट उपचार नहीं है, और रोग को लक्षणात्मक रूप से प्रबंधित किया जाता है, अर्थात इसके लिये कोई फिजिशियन बायोलॉजिकल ट्रीटमेंन्ट उपलब्ध नहीं है । रोग की गंभीरता को कम करने और जटिलताओं को रोकने के लिए एंटीवायरल ड्रग्स, जैसे कि एसाइक्लोविर या सिडोफोविर आदि दवाईयों का उपयोग किया जा सकता है।

दर्द निवारक, जैसे एसिटामिनोफेन या इबुप्रोफेन, का उपयोग बुखार को कम करने और दर्द को दूर करने के लिए किया जा सकता है। गंभीर बीमारी वाले मरीजों को अंतःशिरा तरल पदार्थ और श्वसन समर्थन जैसी सहायक देखभाल के लिए अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है,(नोट-यह मात्र एक एडवाईजरी ट्रीटमेंट के तौर पर किया जा सकता है)।

मंकीपॉक्स की रोकथाम के लिए कुछ मुख्य उपाय (Prevention of monkeypox)-

मंकीपॉक्स की रोकथाम तथा इसके फैलने के जोखिम को कम करने के लिए हमें ये निन्नलिखित सावधानियां बरतनी चाहिए:-

टीकाकरण: चेचक के टीके को मंकीपॉक्स के खिलाफ कुछ सुरक्षा प्रदान करने के लिए दिखाया गया है। जबकि चेचक का टीका अब नियमित रूप से नहीं दिया जाता है, यह उन व्यक्तियों के लिए अनुशंसित किया जा सकता है जो वायरस के संपर्क में आने के उच्च जोखिम में हैं, जैसे कि स्वास्थ्य कार्यकर्ता और प्रयोगशाला कर्मी।
संक्रमित जानवरों के संपर्क से बचें: मंकीपॉक्स मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसे कृन्तकों और बन्दरों के सीधे संपर्क में आने से फैलता है। इन जानवरों के साथ संपर्क से बचें, और उचित सुरक्षात्मक कपड़ों के बिना बीमार या मृत जानवरों को न संभालें।
अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करें: अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से धोएं, खासकर जानवरों, पशु उत्पादों या दूषित वस्तुओं को संभालने के बाद।
संक्रमित व्यक्तियों की देखभाल करते समय सावधानी बरतें: यदि आप मंकीपॉक्स से पीड़ित किसी व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो संचरण को रोकने के लिए उचित सावधानी बरतें। सुरक्षात्मक कपड़े पहनें, जैसे दस्ताने और मास्क, और शारीरिक तरल पदार्थ और दूषित वस्तुओं के सीधे संपर्क से बचें।
संक्रमित व्यक्तियों के साथ निकट संपर्क से बचें: मंकीपॉक्स सांस की बूंदों या शारीरिक तरल पदार्थों के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है, इसलिए संक्रमित व्यक्तियों के साथ निकट संपर्क से बचना महत्वपूर्ण है, जैसे कि कम से कम छह फीट दूर रहना और मास्क पहनना।
संक्रमित व्यक्तियों को अलग करें: वायरस के आगे प्रसार को रोकने के लिए संक्रमित व्यक्तियों को अलग किया जाना चाहिए।
लक्षणों की निगरानी करें: यदि आप किसी संक्रमित व्यक्ति या जानवर के संपर्क में रहे हैं, तो मंकीपॉक्स के लक्षणों, जैसे कि बुखार, दाने और मांसपेशियों में दर्द के लिए खुद की निगरानी करें। यदि आप लक्षण विकसित करते हैं तो चिकित्सकीय ध्यान दें।

इन सावधानियों को अपनाने से मंकीपॉक्स को फैलने से रोका जा सकता है और संक्रमण के जोखिम को कम किया जा सकता है।

मंकीपॉक्स कितना घातक हो सकता है-

यह घातक हो सकता है, हालांकि मृत्यु दर वायरस के तनाव और व्यक्ति की प्रतिरक्षा स्थिति के आधार पर सभी अलग अलग होती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, मंकीपॉक्स की समग्र मृत्यु दर 1% से 10% के बीच होने का अनुमान लगाया गया है, इसकी सबसे अधिक दर पश्चिम अफ्रीका में प्रकोप में देखी गई है। हालांकि, वायरस के कुछ प्रतिशत उच्च मृत्यु दर तक भी हो सकते है, यह कन्डींशन इसके अधिक प्रकोप वाले स्थानो पर देखने पर मिल सकती है । इसका उदाहरण हम कांगो जैसे देश को ले सकते है, रिपोर्टस के अनुसार वहां इसके प्रकोप से मृत्यु दर 20 % तक पहुँच गई थी। इसके अलावा, कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोग, जैसे कि एचआईवी/एड्स से ग्रसित वाले लोग, गंभीर बीमारी और मृत्यु के जेखिम तक पहुँच सकते है। यदि आपको संदेह हो रहा है कि आप मंकीपॉक्स वायरस से ग्रसित है, आपको इसके सिमटम्स समय से नजर आ रहें हैं तो आपको हम चिकित्सकीय सलाह लेने ते लिये कहेंगें क्योंकि प्राथमिक उपचार लगभग हर बिमारी को सही होने पर विवश कर देता है, इससे भी बढकर इंसान को हमेशा पॉजिटिव थॉट के साथ आगे बढना चाहिए

क्या मंकीपॉक्स हवा में फैलता है (What monkeypox air tolerant)-

अभी तक किसी शोध संस्थान ने इसकी पुष्टी नहीं की है कि मंकीपॉक्स हवा मे संचरण करने वाली बिमारी है। इसे मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसे बंन्दरों और प्राइमेट्स के साथ सीधे संपर्क के माध्यम से या संक्रमित मनुष्यों के निकट संपर्क के माध्यम से ही फैलना बताया गया है। वायरस को संक्रमित जानवरों या मनुष्यों के काटने, खरोंचने, या शारीरिक तरल पदार्थ, जैसे रक्त, मूत्र, या श्वसन स्राव के संपर्क के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है। एयरबोर्न ट्रांसमिशन (अर्थात हवा के माध्यम से संक्रमण का फैलना, उदाहरण कोरोना वायरस) इस बात की अभी कोई रिपार्ट किसी शोध संस्थान के माध्यम से सामने नही आयी है। मंकीपॉक्स हवा के माध्यम से नहीं फैलता है, और इसलिए, इसे वायुजनित रोग नहीं माना जाता है।

क्या मंकीपॉक्स एक यौन संचारित रोग है (What monkeypox a sexually transmitted disease)-

इसको यौन संचारित रोग नहीं माना जाता है। यह मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसेनचूंहे जैसी प्रजातीयों और प्राइमेट्स के साथ सीधे संपर्क के माध्यम से या संक्रमित मनुष्यों के निकट संपर्क के माध्यम से फैलता है। यौन संचरण यौन संपर्क के माध्यम से संक्रामक एजेंटों के प्रसार को संदर्भित करता है, जैसे कि योनि, गुदा या मुख मैथुन। मंकीपॉक्स यौन संपर्क के माध्यम से नहीं फैलता है, और इसलिए, इसे यौन संचारित रोग भी नहीं माना गया है।

मंकीपॉक्स का पहला ज्ञात केश किस देश मे मिला।what was the first case of monkeypox-

मंकीपॉक्स का पहला ज्ञात मामला 1958 में डेनमार्क में शोध के लिए उपयोग किये जा रहे बंदरों में देखा गया । इस बीमारी को बाद में “मंकीपॉक्स” नाम दिया गया। इसकी प्रतिक्रिया मनुष्य में पाई जाने वाली बिमारी चेचक के समान थी । मंकीपॉक्स का पहला मानव मामला 1970 में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (जिसे पहले समय में जैरे कहा जाता था) में दर्ज किया गया था। अफ्रिका तथा लाईबेरिया,साथ ही साथ अफ्रीका के बाहर दुनिया के कुछ हिस्सों में, जैसे कि संयुक्त राज्य अमेरिका, जहां छिटपुट हाल के वर्षों में मामले दर्ज किए गए हैं।

क्या मंकीपॉक्स एक वायरल बीमारी है।(what monkeypox is a viral disease)-

जी हां, मंकीपॉक्स एक वायरल बीमारी है, जो मंकीपॉक्स वायरस के कारण होती है, जो चेचक परिवार का ही एक सदस्य है। वायरस उस वायरस के समान है जो मानव चेचक का कारण बनता है, लेकिन मंकीपॉक्स आमतौर पर कम मृत्यु दर के साथ एक मामूली बीमारी है। मंकीपॉक्स मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, जैसे कृंतक और प्राइमेट, या संक्रमित मनुष्यों के साथ निकट संपर्क के माध्यम से सीधे संपर्क के माध्यम से फैलता है। इस बीमारी के कई लक्षण हो सकते हैं, जिनमें बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और दाने शामिल हैं।

क्या मंकीपॉक्स एक संचारी रोग है।(what monkeypox is a communicable disease)-

जी हां, मंकीपॉक्स एक संचारी रोग है, जिसका अर्थ है कि यह निकट संपर्क के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में प्रेषित हो सकता है। वायरस मुख्य रूप से सांस की बूंदों या शारीरिक तरल पदार्थ जैसे लार, रक्त और त्वचा के घावों से फैलता है। संक्रमित व्यक्तियों या उनके शारीरिक तरल पदार्थों के निकट संपर्क से वायरस का संचरण हो सकता है। मंकीपॉक्स दूषित वस्तुओं, जैसे बिस्तर या कपड़ों के संपर्क में आने से भी फैल सकता है। यह कम टीकाकरण दर या अपर्याप्त सार्वजनिक स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे वाले समुदायों में प्रकोप का कारण बन सकता है। उचित सावधानी बरतने से, जैसे कि संक्रमित व्यक्तियों को अलग रखना, सुरक्षात्मक कपड़े पहनना और अच्छी स्वच्छता का अभ्यास करना, रोग के प्रसार को रोकने में मदद मिल सकती है।

क्या मंकीपॉक्स एक यौन रोग है। (what monkeypox is a sexual disease)-

किसी शोधसंस्थान ने, मंकीपॉक्स एक यौन संचारित रोग है इसकी कोई ओपिशियल पुष्टी नही की है। मंकीपॉक्स मुख्य रूप से संक्रमित जानवरों, यहा संक्रमित मनुष्यों के साथ निकट संपर्क के माध्यम से सीधे संपर्क के माध्यम से फैलता है। वायरस सांस की बूंदों या शारीरिक तरल पदार्थ, जैसे लार, रक्त और त्वचा के घावों से फैल सकता है।

नोट- उपरोक्त लेख में हमने मेकीपॉक्स बिमारी की विस्तृत जानकारी दी है, इससे अलग हम साथ में एक सयोजित सलाह भी आपको दे रहे। बिमारी कोई भी हो यदि उसे शुरूआत से, प्राथमिक उपचार दिया जाए तो, यह अपना भयंकर प्रभाव नहीं शरीर पर नहीं डाल पाती है। इसलिये लक्षण प्रतीत होने के साथ ही समय रहते हुए सम्बन्धित चिकित्सा के अनुसार आगे बढें। स्वस्थ रहें- स्वच्छ रहें।

Schemes for Girls Higher Education। लड़कियों की उच्च शिक्षा के लिए योजनाएं, सम्पूर्ण जानकारी-2023

Bhagat Singh, Indian Legend full information। भगत सिंह, भारत का शहीदे-आजम, परिचय-2023

Bhagat Singh, Indian Legend full information। भगत सिंह, भारत का शहीदे-आजम, परिचय-2023

Leave a Reply